भारत में इन क्षेत्रों में है नौकरी की अपार संभावनाएं

Written by

हाल के समय तक भारत में रोजगार के गिने-चुने ही क्षेत्र थे, जिनमें इंजीनियरिंग, मेडिकल और प्रशासनिक सेवाएं प्रमुख थी, लेकिन पिछले कुछ सालों में यह परिपाटी बदली है। आज भारत की बढ़ती अर्थव्यवस्था के कारण रोजगार के नए-नए क्षेत्र विकसित हो रहे हैं, जिनमें सैलरी अच्छी होने के साथ-साथ विकल्प भी काफी हैं। ऐसे ही कुछ क्षेत्रों के बारे की हम आपको जानकारी दे रहे हैं।

करियर काउंसलर

भारत में काम करने वाली बड़ी आबादी ऐसे क्षेत्रों में काम कर रही है, जिसमें उसकी रुचि ही नहीं है। यही कारण है कि लोगों को अपनी नौकरी में मनचाही सफलता नहीं मिल पाती। युवा भी अपने करियर चुनाव को लेकर काफी असमंजस (कन्फ्यूज) में रहते हैं। ऐसे हालात में करियर काउंसलर की भूमिका काफी अहम हो जाती है। यही कारण है कि आज भारत में करियर काउंसलर्स की मांग दिनोंदिन बढ़ती ही जा रही है। करियर काउंसलर्स की मांग स्कूलों और एजुकेशनल इंस्टीट्यूट में सबसे ज्यादा है।

वेतन की बात करें तो करियर काउंसलर को शुरुआती दौर में 15000-50000 तक का वेतन मिल सकता है।

Career

पशु चिकित्सक (वेटरनरी डॉक्टर)

दुनिया में सबसे ज्यादा पशुओं की आबादी भारत में ही पायी जाती है। आंकड़ों की बात करें तो भारत में करीब 1 करोड़ के करीब पशु पाएं जाते हैं। वहीं 10-15 प्रतिशत की दर  से यह  आंकड़ा हर  साल बढ़ रहा है। यहीं कारण है कि भारत में पशुओं के डॉक्टर की डिमांड काफी है और तेजी से बढ़ती ही जा रही है। जिस कारण वेटरनरी डॉक्टर एक बेहतरीन करियर ऑप्शन के तौर पर चमका है।

शुरुआती दौर में इस क्षेत्र में 25000-70000 रुपए तक सैलरी मिल जाती है।

Career

डायटीशियन

स्वास्थ्य को लेकर आज लोगों में जागरुकता बढ़ती ही जा रही है। ऐसे में लोग अब अपने खान-पान को लेकर काफी सजग हो गए हैं। लोगों की कोशिश है कि वह संतुलित खाना खाएं, जोकि सभी पोषक तत्वों की पूर्ति करता हो। ऐसे में लोगों को इस काम में मदद करती हैं डायटीशियन। यही कारण है कि डायटीशियन की मांग दिनों-दिन बढ़ती ही जा रही है। अस्पताल, हॉस्पिटैलिटी सेक्टर, स्कूल कॉलेज आदि में भी डायटीशियन की मांग काफी है।

डायटीशियन को शुरुआती दौर में 20000-50000 तक की सैलरी मिल सकती है।

Career

इंटीरियर डिजाइनिंग

घरों की साज-सज्जा का काम करने वाले विशेषज्ञों को इंटीरियर डिजाइनर कहा जाता है। आज जब भारत में लोगों के पास पैसा बढ़ रहा है तो लोग लग्जरी की ओर रुख कर रहे हैं। यही कारण है कि भारत में इंटीरियर डिजाइनिंग के करियर में काफी संभावनाएं हैं। अनुभव के बाद इस क्षेत्र में भविष्य काफी उज्जवल है।

शुरुआती दौर में एक इंटीरियर डिजाइनर की सैलरी 25000-55000 तक हो सकती है।

इवेंट मैनेजमेंट

इवेंट मैनेजमेंट भारत में तेजी से बढ़ते क्षेत्रों में से एक है। छोटी जन्मदिन की पार्टी से लेकर बड़े-बड़े कंसर्ट का आयोजन इवेंट मैनेजमेंट के तहत ही आता हैं। यही कारण है कि आज भारत में इवेंट मैनेजमेंट कंपनियों की एक बाढ़-सी आ गई है। अब उसी अनुपात में इवेंट मैनेजरों की भी मांग बढ़ रही है। क्रिएटिविटी के साथ-साथ इस क्षेत्र के लिए मैनेजमेंट स्किल का ज्ञान भी बहुत जरुरी है।

इस फील्ड में शुरुआती सैलरी 15000-80000 तक हो सकती है।

Career

फिजियोथैरेपिस्ट

फिजियोथैरेपी चिकित्सा विज्ञान की ही एक शाखा है, जिसमें एक फिजियोथैरेपिस्ट एक्सरसाइज की मदद से चोटों को ठीक करते हैं। अधिकतर मरीज के अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद फिजियोथैरेपिस्ट का काम शुरु होता है। आज जब भारत में चिकित्सा सुविधाओं का स्तर बढ़ रहा है तो फिजियोथैरेपिस्ट की मांग भी बढ़ रही है।

फिजियोथैरेपिस्ट के तौर पर शुरुआत में 15000-55000 तक सैलरी मिल सकती है।

होम्योपैथी

चिकित्सा क्षेत्र में एलोपैथी का दबदबा कायम है, लेकिन कहा जा रहा है कि आने वाला वक्त होम्योपैथी का है। जैसा कि सभी जानते हैं कि एलोपैथी इलाज काफी महंगा होता है और उससे काफी साइड इफेक्ट भी होते हैं। लेकिन होम्योपैथी के इलाज की अच्छी बात है कि यह असरदार होने के साथ-साथ सस्ता और साइड इफेक्ट से रहित है। यही कारण है कि लोगों में होम्योपैथी का रुझान तेजी से बढ़ रहा है।

होम्योपैथी के डॉक्टर को शुरुआती दौर में 25000-50000 तक का वेतन मिल सकता है।

Career

बैंकिंग सेक्टर

इकॉनोमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक अगले दशक तक भारत का बैंकिंग सेक्टर दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा बैंकिंग सेक्टर बन जाएगा। ऐसे में भारत में बड़ी संख्या में बैंकिंग सेक्टर में नौकरियां पैदा होंगी। यही कारण है कि बैंकिंग सेक्टर भारत में करियर का अच्छा ऑप्शन है।

बैंकिंग सेक्टर में शुरुआती सैलरी 15000-60000 तक हो सकती है।

Career

Article Categories:
Jobs · Youth Corner

Leave a Reply

Shares