एक बार फिर घटी दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र के साथ घटना – आयुष नौटियाल

Written by

एक बार फिर घटी दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र के साथ घटना – आयुष नौटियाल

नई दिल्ली: दुनिया भर में प्यार (Love), आशिकी, लव जिहाद का सिलसिला तो ऐसे चलता दिखाई डे रहा है, जेसे दिवाली के पटाखे, जिसकी दिवाली आने से पहली ही देश भर में आवाजे गूंजने लगती है,लेकिन पटाखे का मौसम भी केवल दिवाली ही नही होता। शादी – विवाह, क्रिकेट, या किसी भी शुभ अवसर पर हमेसा इनका उपयोग दिखाई देता है, ऐसे ही प्यार है, जो केवल वैलेंटाइन मंथ यानि के फरवरी ही नही होता बल्कि हर दिन प्यार का होता ही। लड़ाई – झगडे तो हर कपल में होते है, लेकिन इसका मतलब ये नही होता कि किसी को किडनैप करके उसे मौत के घाट ही उतार दिया जाये। पयार से अगर अपने पार्टनर को मनाया जाए तो कोई भी रिश्ता (relationship) आसानी से और लम्बे समय तक चलाया जा सकता है। शयद आयुष नौटियाल की जान भी बच जाती|

हाल ही में राजधानी दिल्ली में फिर से एक छात्र की मौत की खबर देश भर में घूम रही ह। यह घटना कोई पहली घटना नही रही अब राजधानी में इससे पहले भी पिछले कुछ दिनों ये सिलसिला एक ट्रेंड (trend) की तरह दिल्ली की हवा में फैल चुका है।

देश की ड्रीम दिल्ली यूनिवर्सिटी (Delhi University ) में एक और दिल दहला देने वाली घटना ने कल 30 मार्च 2018 को  अंजाम दे दिया। दिल्ली यूनिवर्सिटी (D.U) से बी.कॉम कर रहा 21 वर्ष के छात्र आयुष नौटियाल  की अपहरण करने के बाद हत्या कर दी। जानकारी के मुताबिक 22 मार्च 2018 को आयुष नौटियाल घर से बहार गया था। असल में आयुष नौटियाल डेटिंग अप्प (Dating App) के जरिये किसी 25 वर्षीय वेब डिजायनर (web designer) से 10 दिन पहले मिला था, जीसके बाद वह केवल 3 बार ही मिले थे, और किसी करणवश उनका झगड़ा हो गया था। जिसके चलते वह घर से कॉलेज के लिए तो निकला लेकिन घर वापस नही लोट सका| घर न लोटने पर आयुष नौटियाल के घरवालो ने उसे धुंडने की कोशिश की लेकिन वह नही मिला। उसी दिन आयुष के पिता को उसी के नम्बर से व्हाट्स एप्प (Whats App) में आयुष नौटियाल का फोटो आया था, जिसमे उसके मुह और हाथ पैर बांधे हुए थ। साफ़ दिखाई डे रहा था की यह अपहरण है। साथ ही मेसेज में 50 लाख रूपये की फिरोती की मांग भी की हुई थी। मेसेज देखते ही यह सुचना आयुष के परिजनों ने पुलिस को दे दी थी।

जानकारी के अनुसार आयुष नौटियाल के परिजनों ने अपहरणकर्ताओं (kidnappers) से फिरोती की रकम कम करने की गुज़ारिश कर रहे थे, और वह मानकर 10 लाख रूपए पर अटक गये थे। पुलिस के साथ आयुष नौटियाल के घरवाले पैसे देने के लिए 2 दिन तक घुमे भी थे, लेकिन कल 30 मार्च 201 8 को यह जानकारी मिली की आयुष नौटियाल का शव द्वारका सेक्टर 13 में नाले के पास पड़ा मिला है।

 

 

Article Categories:
News · Youth Corner

Leave a Reply

Shares