SALUTE कीजिए इस युवक को, जिसने IAS बनने के लिए वैवाहिक जीवन तक दाँव पर लगा दिया

Written by

अहमदाबाद 31 अगस्त, 2019 (युवाPRESS)। लोग आईएएस और आईपीएस बनने के लिए क्या कुछ नहीं करते। इसके लिए उन्हें दिन के 24 घण्टे भी कम पड़ जाते हैं। उम्र के जिस पड़ाव में आम युवा मौज-मस्ती करने की चाहत रखता है, वहीं भारतीय सिविल सेवा में शामिल होने की चाह रखने वाले ऐसा जीवन बिताते हैं, जो किसी संन्यासी से कम नहीं होता। ऐसे कई उदाहरण देखने को मिलते हैं, जिनमें लोग भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) और भारतीय पुलिस सेवा (IPS) में जुड़ कर एक प्रतिष्ठित और सुनहरा भविष्य बनाने के लिए कई तरह के बलिदान देते हैं और कड़ी मेहनत करते हैं। कई युवा तो आईएएस-आईपीएस अधिकारी बनने के लिए अपने सभी शौक-मौज़ छोड़ कर भारी-भरकम किताबों से उज्ज्वल भविष्य की राह तलाशने में जुटे रहते हैं। इस प्रतिष्ठित पद को पाने के लिए कुछ लोग तो अपने चेहरे की हँसी तक उड़ाने से भी पीछे नहीं हटते और निरंतर हौसला बनाए रखते हैं।

एक ऐसा ही मामला मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से सामने आया है, जो एक युवक की आईएएस अधिकारी बनने की अदम्य इच्छा का तो परिचायक है ही, परंतु पूर्व में उजागर हुए कई अन्य उदाहरणों से बिल्कुल हट कर है। भोपाल में रहने वाले इस युवक की आईएएस बनने की महेच्छा इतनी हावी है कि उसने अपने वैवाहिक जीवन तक को दाँव पर लगाने में संकोच नहीं किया। आईएस बनने की उसकी चाहत उसे उस हद तक ले गई, जहाँ वह यह भी भूल गया कि वह एक विवाहित युवक है और उसका अपनी पत्नी के प्रति भी कोई उत्तरदायित्व है। यहाँ तक कि दिन-रात पढ़ाई और कोचिंग में ही समय बिताने वाले युवक की नई-नई शादी हुई है, परंतु आईएएस बनने की इस दीवानगी में युवक द्वारा निरंतर उपेक्षा की जाती रही, तो नई-नवेली पत्नी ने इस युवक से मुक्ति पाने का रास्ता अपनाने का कठोर निर्णय कर लिया।

युवक की लगन से पत्नी हुई परेशान

यह पूरा मामला मध्य प्रदेश के भोपाल के कटारा हिल्स (Katara Hills) क्षेत्र में रहने वाले एक नवदम्पति का है, जिसमें पति के आईएएस की पढ़ाई में व्यस्त रहने तंग आकर पत्नी ने पति से कानूनी रूप से संबंध-विच्छेद की मांग कर डाली। तलाक़ मांगने वाली यह युवती मूलत: मुंबई की है और दो वर्ष पहले ही विवाह कर भोपाल आई है। विवाह के बाद कई अरमान संजोए यह युवती भोपाल तो आ गई, परंतु कुछ ही दिनों में उसे यह एहसास हो गया कि उसके पति पर आईएएस बनने की ऐसी धुन सवार है कि वह उसकी लगातार अनदेखी और उपेक्षा कर रहा है। पत्नी ने बार-बार पति को समझाने की कोशिश की, परंतु जब पढ़ाई और कोचिंग की दुनिया में आकंठ डूबा पति बाहर नहीं आया, तो पत्नी ने उससे छुटकारा पाना ही उचित समझा। पत्नी का मानना है कि शादी के दो साल बाद भी पति की ओर से उन्हें वह प्यार नहीं मिला, जो एक नवोढा को मिलता है। उनके पति सिर्फ पढ़ाई में ही अपना पूरा समय बिताते हैं और उन पर ध्यान नहीं देते। इसी कारण वह अपने पति से तलाक लेना चाहती हैं।

संबंध नहीं, सपनों को ऊपर मानता है युवक

पत्नी के तलाक़ की अर्ज़ी देने के बावजूद युवक तनिक भी विचलित नहीं हुआ। पति का कहना है कि बचपन से ही वे आईएएस बनना चाहते थे। अब वे सपने को कैसे छोड़ दें ? फिलहाल यह मामला भोपाल जिला विधिक सेवा प्राधिकरण (Bhopal District Legal Services Authority) में विचाराधीन है। प्राधिकरण का पहला प्रयास यह है कि पति-पत्नी का संबंध बना रहे। इसीलिए प्राधिकरण के अधिकारी पति-पत्नी दोनों की काउंसेलिंग कर रहे हैं। प्राधिकरण तलाक़ मांगने वाली महिला को यह समझाने की कोशिश कर रहा है कि उसके पति का उद्देश्य अच्छा और महत्वपूर्ण है। उसे पति के उद्देश्य को पूरा करने में उसका सहयोग करना चाहिए। दूसरी तरफ पति को भी यह समझाने की कोशिश की गई कि वह पत्नी के लिए थोड़ा समय अवश्य निकाले। दोनों को छह माह का समय दिया गया है। इसके बाद प्राधिकरण पत्नी की तलाक़ की अर्ज़ी पर आगे की कार्रवाई सुनिश्चित करेगा।

Article Categories:
News · Youth Corner · Youth Icons

Comments are closed.

Shares