‘जल दिवस’ (Jal Divas) के अवसर पर जानिये क्या है जल का असली चमत्कार??

Written by
World Water Day 2018

नई दिल्ली : 22 मार्च को पूरा विश्व में जल दिवस (World Water Day) मनाया जाता है। हम जानते हैं कि जल है, तो जीवन है। प्राणी 11 दिन खाने के बिना तो जीवित रहे सकता है, लेकिन वह पानी के बिना 12 घंटे भी नहीं रह सकता। जल केवल जीने के लिए ही या फिर हमारी प्यास भुजाने के लिए ही जरूरी नहीं है, बल्कि यह हमे स्वस्थ (healthy) भी रखता है। इससे पाचन – तंत्र (digestive system) का रोग नहीं होता और दिमाग के विकास (brain develop) में भी इसकी बहुत अहम भूमिका है।

सारा दिन का थकान से पीड़ित व्यक्ति अपनी हेल्थ के लिए समय नहीं निकल पाता है, और गंभीर बीमारियों का शिकार  हो जाता है। ऐसे में सबसे सरल उपाय होता है “जल” यानि के पानी का महत्व समझे। आज भी कई ऐसे लोग मोजूद है, जो इसके उपयोग की जगह दुरूपयोग कर रहे हैं और अपने साथ दुसरो को भी रोगों का शिकार बना रहे हैं। इसके साथ ही कुछ ऐसे भी लोग है, जो पानी का महत्व जानकर भी अनजान बने हुए हैं और जल का दुरूपयोग कर रहे है।

जल का अंधाधुन्द इस्तेमाल सही नहीं

एक तरफ हम आज जल दिवस (World Water Day) मना रहे हैं तो दूसरी तरफ पानी बिकना तो आम हो गया है। इसका भी दल – चावल, सब्जियों की तरह मोल – भाव होने लगा है। आज 10 रूपये, 25 रूपये के भाव से पानी मिलता है। एक तरफ भारत देश का मशहुर राज्य ‘राजस्थान’ (Rajasthan) है, तो दूसरी और ‘हरयाणा’ (Haryana) है। पानी की बात की जाए तो दोनों ही राज्ये में पानी की कमी पायी जाती है। पानी का इस्तेमाल यहाँ सोच समझकर किया जाता है। राज्ये राजस्थान (Rajasthan) में अक्सर पीने के लिए पानी भी नहीं होता तो दूसरी और अन्य राज्यों में पानी का यूज  जरूरतमंद होने की जगह अपने मन के अनुसार किया जाता है।

पानी का यूज सड़क को धोने, कार को वाश करने के लिया या फिर किसी भी नेता के आने पर धुल – मट्टी न उड़े इसके लिए अन्धाधुन्ध पानी का इस्तेमाल किया जा रहा है। इन चीजों पर पानी का इस्तेमाल करना कोई गलत बात तो नहीं है, लेकिन अंधाधुन्द यूज करना गलत है, जरूरत होने पर ही किसी भी रिसोर्स ( resource) का इस्तेमाल किया जाना चाहिए अन्यथा वो दिन दूर नही जब धरती पर हर चीज का काल पढ़ जयेगा।

‘जल दिवस (World Water Day)’ के अवसर पर जानिये जीवन में पानी का असली महत्व

  • थकान के लिए रामबाण – सारा दिन कामकाज में व्यस्त (busy) व्यक्ति जब घर आता है तो पानी ही पीता है, इसलिए नहीं क्योकि वह थका हुए है, बाल्की जल पीने से रहत मिलती है, और थकान भी कम महसूस होती है, साथ ही नहाने से भी काफी सुकून मिलता है।
  • पाचन तंत्र (Digestive System) का स्वस्थ रहना- सुबह जल्दी जाग कर पानी पिने से पाचन तंत्र सही रहता है, खाना खाने के कुछ देर बाद भी पानी आवश्य ही पीना चाहिए और साथ ही कुछ भी खाने से पहले हाथ भी धोने चाहिए।
  • बारिश का पानी करे सेव (save rain water) – बारिश का पानी सेव (save rain water) करने से यह पानी कपड़े धोने, साफ़ सफाई करने आदि के काम आयगा जिससे साफ़ पानी का यूज इन सभी काम की जगह खाने और पीने में होगा।
  • डाइटिंग (Dieting) के लिए है महत्वपूर्ण – डाइटिंग (dieting) भूखे रहने से नही होती बल्कि इससे शारीर में कमजोरी (weakness) पैदा होती है, जिसके कारण आप बीमार हो जाता है। पानी डाइटिंग के लिए बेहद महत्वपूर्ण है, कोसा – कोसा पानी पीना अति उतम माना गया है| खाना खाने से 30 मिनिट पहले पानी पीना चाहिए, इससे वजन कम (weight loss) होता है।

Yuva Press आशा करती है, की आप सब भी ‘जल दिवस’ पर ‘जल’ का महत्व समझे और इसका इस्स्तेमल केवल जरूरत के समय ही करें।

Article Categories:
Health · News · Youth Corner · Youth Icons · Yuva Exclusive

Leave a Reply

Shares